Press "Enter" to skip to content

Stomach Pain In Kids: पेट में दर्द की वजह से चिड़चिड़ा हो गया है आपका बच्चा, तो इन घरेलू उपायों से करें बच्चों में पेट दर्द को ठीक

Stomach Pain In Kids: पेट में दर्द की वजह से चिड़चिड़ा हो गया है आपका बच्चा, तो इन घरेलू उपायों से करें बच्चों में पेट दर्द को ठीक

Stomach Pain In Kids: ऐसे में क्या करें जब बच्चा पेट दर्द का अनुभव करें.

Remedies for Stomach Pain in Toddlers: बच्चों के पेट में बार-बार दर्द होता है? ऐसा इसलिए है क्योंकि वे कुछ भी और किसी भी समय खा लेते हैं, लेकिन कई अन्य कारण भी हैं जो बच्चों में पेट दर्द का कारण बन सकते हैं. हालांकि, अच्छी बात यह है कि कुछ आसान घरेलू उपायों से इसका इलाज किया जा सकता है. पेट दर्द के लिए कई प्रभावी प्राकृतिक उपचार (Natural Remedies for Stomach Pain) हैं जो आपके बच्चे को कुछ ही समय में राहत प्रदान कर सकते हैं. क्या आपने अपने बच्चे को पेट पकड़कर चिल्लाते देखा है? इसमें कुछ भी असामान्य नहीं है. ज्यादातर बच्चे करते हैं, खासकर 3 से 11 साल के बच्चों में ये आम है, लेकिन बच्चों को पेट दर्द की शिकायत और रोना अच्छा नहीं लगता. यह आपको रातों की नींद हराम कर सकता है, आपको चिंतित और तनावग्रस्त बना सकता है. बच्चों में पेट दर्द, पेट में कीड़े (worms in stomach) होने की वजह से भी हो सकता है. ऐसे में क्या करें जब बच्चा पेट दर्द का अनुभव करें.

बच्चों में पेट दर्द के लिए घरेलू उपचार | Home Remedies For Stomach Ache In Kids

यह भी पढ़ें

1) अपने बच्चे को हाइड्रेटेड रखें

अपने बच्चे को हाइड्रेटेड रखने के लिए किसी भी तरह की बिना मीठी चाय जैसे पुदीना या अदरक की चाय दें. यह उसके पेट की दर्द वाली नसों को शांत करेगा और उसके पेट दर्द को कम करने में मदद करेगा. जब तक वह बेहतर महसूस न करे तब तक उसे डेयरी प्रोडक्ट्स या तली हुई चीजें देने से बचें. भूख लगने पर आप उसे टोस्ट या दलिया दे सकते हैं. अगर उसके पेट में दर्द के साथ उल्टी हो रही हो, तो उसे कोई ठोस आहार न दें; दर्द कम होने तक उसे तरल चीजें दें.

Drinks For Acid Reflux: एसिड रिफ्लक्स की वजह से छाती और पेट में होती है जलन तो इन घरेलू ड्रिंक्स से पाएं तुरंत आराम

2) गर्म सेक का प्रयास करें

पेट दर्द के लिए सबसे सुरक्षित और सबसे प्रभावी उपचारों में से एक गर्म सेक है. वार्म कंप्रेस की सबसे अच्छी बात यह है कि इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है और यह जल्दी राहत देता है. अगर आप हीटिंग पैड का उपयोग कर रहे हैं, तो गर्मी के लो लेवल का चयन करें और इसे अपने बच्चे के पेट पर रखें. लेकिन इसे सीधे न लगाएं. अगर आपके पास हीटिंग पैड नहीं है, तो गर्म पानी से भरी बोतल का उपयोग करें; इसे एक कपड़े में लपेट लें और आपका गर्मागर्म सेंक तैयार है.गर्मी उसकी मांसपेशियों को आराम देगी और पेट दर्द से राहत दिलाएगी.

3) हींग का पेस्ट लगाएं

बच्चों के पेट दर्द के लिए हींग या हिंग भी एक कारगर उपाय है. यह शरीर से गैसों को बाहर निकालने में सहायता करके पेट दर्द को कम करता है. पानी में थोड़ा सा हींग पाउडर मिलाकर पेस्ट बना लें और इसे बच्चे की नाभि के आसपास लगाएं. हींग के चूर्ण को जैतून के तेल में मिलाकर कुछ देर तक बच्चे के पेट की मालिश करने से भी उसे जल्द आराम मिल सकता है.

4) दही और अन्य प्रोबायोटिक खिलाएं

प्रोबायोटिक पेट दर्द को शांत करने में मदद करने के लिए भी जाने जाते हैं. दही, जिसमें प्रोबायोटिक्स होते हैं, दस्त और ऐंठन से राहत दिला सकता है. दही भी अच्छे बैक्टीरिया से भरा होता है जो आंत में रोगाणुओं के नुकसान की भरपाई करता है. मेथी के बीज बच्चों के पेट दर्द के इलाज में भी मदद करते हैं. एक मुठ्ठी मेथी दाना पीसकर, दही में मिलाकर पेट में दर्द होने पर अपने बच्चे को दें. कोई भी भारी भोजन देने के बजाय उसे खिचड़ी या सादा चावल दें.

Is Honey Bad For You: सिर्फ इन लोगों को खाना चाहिए शहद! बाकी लोग इस नेचुरल शुगर से दूर ही रहें तो बेहतर है

5) हर्बल चाय दे सकते हैं

बच्चों में पेट दर्द को शांत करने के लिए हर्बल चाय भी दी जा सकती है. अदरक को कद्दूकस करके गर्म पानी में कुछ देर के लिए भिगो दें. फिर छान लें और अपने बच्चे को दें, अगर वह दो साल या उससे अधिक का है. अगर उसकी उम्र दो साल से कम है, तो आप उसकी नाभि के आसपास अदरक का रस लगा सकते हैं. आप उसे एक कप चाय में कुछ पुदीने की पत्तियां और नींबू के रस की कुछ बूंदें भी दे सकते हैं, क्योंकि यह पेट दर्द को कम करने में मदद करता है. पुदीना आंत से हानिकारक बैक्टीरिया को दूर करने में मदद कर सकता है जबकि नींबू कब्ज में मदद कर सकता है.

6) उसे शहद दें

शहद कार्बोहाइड्रेट, शुगर और एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत है. इसे हर्बल चाय में या गर्म पानी में मिलाकर बच्चों को दिया जा सकता है. बच्चे भी इसे आसानी से खाना पसंद करते हैं. हालांकि, अगर आपका बच्चा 2 साल से छोटा है तो उसे शहद न खिलाएं.

फेल हो सकते हैं दादी और नानी के बताए ये गर्भनिरोधक नुस्खे, बच कर रहें इन Natural Contraception Methods से…

7. धीरे से उसकी मालिश करें

पेट की दर्द वाली नसों और मांसपेशियों को उसके चारों ओर ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाकर राहत दी जा सकती है और इसे कोमल मालिश देकर आसानी से प्राप्त किया जा सकता है. अपनी हथेलियों और उंगलियों का उपयोग करके अपने बच्चे के नाभि क्षेत्र के चारों ओर राइट साइड में गोलाकार गति में धीरे से मालिश करें. ठोड़ी से नीचे की ओर पेट के निचले हिस्से तक मालिश करने से भी राहत मिल सकती है.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.
 

More from HealthMore posts in Health »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Mission News Theme by Compete Themes.